Sardi Jukam Ki Dawa

Sardi Jukam Ki Dawa

सर्दी ज़ुकाम की दवा

जुकाम, नया ज़ुकाम, नज़ला
परिचय-

Sardi Jukam Ki Dawa, Cold Home Remedies, Cold Treatment, Jukam Ka Ilaj

ऋतु(जलवायु) परिवर्तन अथवा सर्द-गर्म के प्रभाव से जो आँखों और नाक से स्राव आता है। छींके भी आती है इसे ज़ुकाम कहते हैं।

कारण-

इसका मुख्य कारण ऋतु(जलवायु) परिवर्तन है। इसके अतिरिक्त वर्षा में भीगना, पसीना निकलते रहने की अवस्था में शरीर के वस्त्र उतार कर, शरीर को नंगा कर देना या पसीने में अचानक शीतल जल पी लेना, नंगे पाँव पानी में देर तक घूमना, लगातार कब्ज़ रहना शरीर में कैल्सियम की कमी आदि मुख्य कारण है।

आप यह हिंदी लेख chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

लक्षण-

इसमें नाक और गला विशेष रूप से प्रभावित होता है। यही कारण है कि बार-बार छींके आनी, खाँसी कम आती और आँखों से पानी अधिक आता है, तबियत भारी-भारी और गिरी-गिरी रहना, नाक और आँखों से श्लेष्मा का स्राव अधिक आना, ज़ुकाम के पक जाने पर गला फंसने जैसी आवाज आती है, बलगम गाढ़ा आना, रात में नाक बंद होना, जिससे मुँह से साँस लेना पड़ता है आदि।

रोग की पहचान-

नाक और आँखों से स्राव आना, बार-बार छींके आना, नाक से साँस कठिनाई से आना आदि।

चिकित्सा-

Sardi Jukam Ki Dawa

1. अकलकरा(अकरकरा) को जैतून के तेल में पका कर मालिश करने से पसीना आकर ज्वर उतर जाता है। अकरकरा के गर्म काढ़े का सिर पर लेप करने और तालू पर मलने से सर्दी और नज़ला ठीक हो जाता है।

2. अफीम बीज रहित(डोढ़ों) का काढ़ा 60 मि.ली. में मिश्री 150 ग्राम मिलाकर शर्बत बना लें। 30 मि.ली. नित्य दो बार पीने से खाँसी और ज़ुकाम में लाभ होता है।

3. कचूर, पीपर और दालचीनी के क्वाथ में शहद मिलाकर पीने से ज़ुकाम में लाभ होता है।

4. यदि मौसम परिवर्तन से ज़ुकाम हो जाये, तो पित्त पापड़ा, गिलोय(गुरूच) और छोटी कटेरी का काढ़ा पीने से लाभ होता है।

Sardi Jukam Ki Dawa

5. कागज की भोगली में कर्पूर को रखकर श्वास के साथ धूनी से ज़ुकाम में लाभ होता है।

6. राई के तेल की नाक के ऊपर मालिश करने से नाक बहना तुरन्त बंद हो जाता है।

7. राल और बूरे को जलाकर उसका धुआँ लेने से सर्दी का ज़ुकाम सही हो जाता है।

यह भी पढ़ें- मधुमेह

8. लौंग 2 नग और अफीम 500 मि.ग्रा. को पानी में पीसकर गर्म करके ललाट पर लेप करने से नज़ले की मस्तक पीड़ा ठीक हो जाती है।

9. सिरस के बीजों के चूर्ण को पोटली में बांधकर सूंघने से बंद ज़ुकाम, बंद नाक ठीक हो जाता है।

10. सर्दी के ज़ुकाम में वच लाभप्रद है। हल्दी भी लाभ पहुंचाती है।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.