Pachan Shakti Badhane Ki Medicine

Pachan Shakti Badhane Ki Medicine

पाचन शक्ति बढ़ाने की मेडिसिन

अग्निमांद्य(Dyspepsia)

अग्निमांद्य पाचन संबंधी वह विकार है, जिसमें अग्निमंद हो जाती है। परिणाम यह होता है कि भूख खुलकर नहीं लगती है, खाया-पीया ठीक से नहीं पचता है तथा पेट में भारीपन, खट्टी डकारें आना, पेट फूलना, पेट में दर्द, छाती में जलन, कब्ज़, आलस्य, बिना परिश्रम के थकावट होना आदि कष्ट होते हैं। इसीलिए इस रोग को ‘अग्निमांद्य’ या ‘मंदाग्नि’ भी कहते हैं।

आप यह हिंदी लेख Chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

घरेलू चिकित्सा-

Pachan Shakti Badhane Ki Medicine

1. अदरक का रस डेढ़ ) चाय चम्मच, नींबू का रस 1 चाय चम्मच तथा काला नमक ) ग्राम। तीनों को मिलाकर भोजन से 15 मिनट पूर्व दोनों समय चाटें। अग्निदीप्त होगी तथा अजीर्ण दूर होगा।

2. सोंठ, काली मिर्च, पीपल तथा सेंधा नमक बराबर-बराबर मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण कर लें। 1-1 ग्राम दोनों समय भोजन के बाद पानी के साथ दें। अजीर्ण दूर होगा, गैस निकलेगी एवं भूख खुलकर लगने लगेगी।

यह भी पढें- उच्च रक्तचाप

3. अदरक को छीलकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर उसमें पर्याप्त मात्रा में कागजी नींबू का रस तथा नमक मिलाकर एक सप्ताह तक धूप में पड़ा रहने दें। उसके बाद प्रतिदिन भोजन से पहले यह अचार 1-2 ग्राम की मात्रा में दो बार चबाकर खायें। खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ यह मंदाग्नि को भी दूर करता है। प्रत्येक घर में इसे तैयार कर रखना चाहिए।

4. 50 ग्राम अजवायन को आवश्यक मात्रा में नींबू के रस में 12 घंटे तक भिगोने के बाद सुखा लें। फिर उसका महीन चूर्ण बनाकर उसमें 10 ग्राम काला नमक का चूर्ण मिलाकर रख लें। 3-3 ग्राम प्रतिदिन 2 बार पानी के साथ दें। इससे अग्निदीप्त होगी, अतः भूख लगेगी, भोजन पचेगा तथा गैस निकलेगी। यह खाने में स्वादिष्ट भी लगता है। बहुत से लोग इसे तैयार कर हमेशा अपने पास छोटी-सी डिब्बी में रखते हैं और आवश्यकतानुसार सेवन करते रहते हैं।

यह भी पढ़ें- मधुमेह को ऐसे करें नियंत्रित

5. एक नींबू को बीच से काटकर दो टुकड़े कर दें तथा दोनों टुकड़ों पर एक-एक चुटकी काली मिर्च का चूर्ण तथा नमक बुरक कर आग पर पकायें। दोनों समय भोजन के पूर्व 1-1 टुकड़ा चूसकर खायें। अजीर्ण दूर होगा, भूख लगेगी तथा भोजन में रूचि उत्पन्न होगी।

6. भुना जीरा, भुनी हींग, सोंठ और सेंधा नमक बराबर-बराबर महीन चूर्ण कर लें। 1-2 ग्राम दोनों समय भोजन के बाद पानी के साथ देने से अजीर्ण दूर होता है।

7. अजवायन को नींबू के रस में 12 घंटे तक भिगोकर रख दें। फिर सुखाकर चूर्ण बना लें। उसमें समभाग काला चूर्ण मिला लें। ) से 1 ग्राम तक दोनों समय भोजन के बाद पानी के साथ दें।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.