Gas Ki Dawa

Gas Ki Dawa

गैस की दवा

पेट में गैस बनना, अफारा

Flatulence, Pet Ki Gas, Gas Ki Dawa Ka Naam, Gas Ki Dawa

पेट में गैस बनने का कारण कब्ज, पानी आवश्यकता से कम पीना, संयोग विरूद्ध आहार लेना, चाय, काॅफी का सेवन करना, भोजन में चावल, खटाई, दही, गोभी, कटहल, बैंगन आदि को छोड़ दें। अतः इन वायुकारक पदार्थों को छोड़ दें। पर्याप्त मात्रा में पानी पीयें, जिससे भोजन ठीक से पचे और नियमित रूप से मल का निष्कासन होता रहे।

आप यह हिंदी लेख Chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

घरेलू चिकित्सा-

Gas Ki Dawa

1. नित्य सुबह फलों को खायें।

2. दोपहर और शाम को चोकर वाले आटे की रोटी के साथ पर्याप्त मात्रा में सब्जी खायें।

3. अमरूद को काटकर सोंठ, काली मिर्च और सेंधा नमक पिसा हुआ छिड़क कर खाने से पेट में गैस बनना, अपचन आदि कष्ट दूर हो जाते हैं।

4. नियमित रूप से व्यायाम करें। पेट की माँसपेशियां संबंधी आसन और व्यायाम अधिक लाभदायक हैं।

5. ईमली का गूदा पानी में उबाल और शक्कर मिलाकर पीने से गैस की शिकायत दूर हो जाती है।

यह भी पढ़ें- मधुमेह

6. यदि घी खाने से पेट में गैस बने तो एक गिलास गुनगुने पानी में चार नींबू निचोड़ कर एक चुटकी काली मिर्च पिसी हुई मिलाकर पीने से लाभ होता है।

7. छोटी और बड़ी अरनी की जड़ का काढ़ा पीने से वायुगोले में लाभ होता है।

8. इन्द्रायण की गिरी और एलवे को पीसकर गर्म पानी के साथ लेने से अफारा में लाभ होता है।

9. किरायता छोटा के फूल वाला पौधा अग्निवर्धक, पेट का अफारा दूर करने वाला और कटु पौष्टिक होता है।

10. कोमल का फल पेट के अफारे को दूर करता है।

11. प्याज के रस में भुनी हींग और काला नमक मिलाकर पीने से उदरशूल और अफारा में लाभ होता है।

12. काला नमक के साथ मरोड़फली के चूर्ण की फँक्की लेने से शूल और अफारा में लाभ होता है।

13. मूसाकानी की जड़ों को पानी में पीसकर पेट पर लेप करने से पेट के अफारा में लाभ होता है।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.