Garmi Me Health Tips In Hindi

Garmi Me Health Tips In Hindi

गर्मी में स्वास्थ्य के लिए हिंदी टिप्स

गर्मी के मौसम में होने वाले रोग और उनके उपाय

Garmi Me Health Tips In Hindi, health tips in hindi, garmi rog

गर्मी के मौसम की शुरूआत हुई नहीं, कि मौसम परिवर्तन के कारण कई प्रकार के रोग व्यक्ति को घेरने लगते हैं। अक्सर गर्मियों के मौसम में हमें बहुत-सी समस्याओं से जूझना पड़ता है। गर्मियों के मौसम में हमें अपने स्वास्थ्य की ओर ध्यान देने की बहुत जरूरत होती है, क्योंकि गर्मियां अपने साथ कई प्रकार के रोग भी उपहार स्वरूप लाती है। जैसे कि लू लगना, निर्जलीकरण यानी शरीर में पानी की कमी जिसे अंग्रेजी में डिहाइड्रेशन कहते हैं, ज्वर आना, पेट से संबंधित रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए फिर से कहना चाहेंगे कि गर्मियों के मौसम में रहें सजग और रखें अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान।

आप यह हिंदी लेख chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

ये हैं वो खास रोग जिनसे हमें गर्मियों के मौसम में होना पड़ता है दो-चार..

1. निर्जलीकरण-

Garmi Me Health Tips In Hindi

निर्जलीकरण से अभिप्राय है कि व्यक्ति के शरीर में जल का अभाव यानी पानी की कमी हो जाना। निर्जलीकरण(डिहाइड्रेशन) होने की संभावना गर्मियों के दिनों में अत्यधिक होती है। दरअसल तेज धूप व गर्मी के कारण हमारा पसीना बहुत निकलता है और फिर यदि ऐसे में हमारी बाॅडी को पर्याप्त मात्रा में जल न मिले तो व्यक्ति को निर्जलीकरण हो जाता है। इसलिए तो कहा जाता है कि पानी खूब पीना चाहिए, ताकि शरीर में जल की आपूर्ति बनी रहे।

2. फूड प्वाइजनिंग-

Garmi Me Health Tips In Hindi

फूड प्वाइजनिंग यानी ऐसा आहार व भोजन खाना जिसके कारण खाया गया भोजन व आहार विषैले रसायन उत्पन्न करते हैं और व्यक्ति ज्वर, वमन, दस्त, चक्कर आना, शरीर दुखना और कमज़ोरी आदि परेशानियों की चपेट में आ जाता है। सरल भाषा में कहा जाये तो जब भोजन पेट में जाकर सही से न पचे और सड़कर जहर समान हो जाये, तो इससे उत्पन्न समस्याओं को फूड प्वाइजनिंग कहते हैं। फूड प्वाइजनिंग होने की संभावना अधिकतर गंदा भोजन करना या गंदा पानी पीना के कारण होती है। ऐसा नहीं है कि यह समस्या केवल गर्मी के मौसम में ही होती है, अन्य मौसमों में भी यह समस्या पेश आ सकती है, इसलिए अच्छा खायें, अच्छा पीयें और स्वस्थ रहें।

3. लू लगना-

Garmi Me Health Tips In Hindi

जैसा कि आप भली-भांति जानते ही हैं कि गर्मियों के मौसम में धूप भी तेज होती है और इस मौसम में चलने वाली हवायें भी बहुत ज्यादा गर्म होती हैं। इन्हीं तेज चलने वाली गर्म हवाओं को ‘लू’ कहते हैं और जब इस लू का तेज गर्म प्रवाह हमारा शरीर सहन नहीं कर पाता है, तो हमें कई समस्यायें हो जाती हैं जैसे सिर चकराना, वमन, ब्लडप्रेशर का कम होना, तेज ज्वर आना आदि। लू लगना एक ऐसी गंभीर समस्या जिससे कभी-कभी इंसान की जान का खतरा भी बना रहता है, इसलिए गर्मियों में रखें खुद का ध्यान।

4. जाॅन्डिस-

Garmi Me Health Tips In Hindi

यूं तो कई गंभीर समस्यायें हैं जिनकी संभावना गर्मियों के मौसम में बनी रहती है, किन्तु जिस रोग की संभावना सबसे अधिक होती है वो है जाॅन्डिस(पीलिया)। इस रोग में व्यक्ति के आंखों की सफेद पुतली पीली हो जाती है, नाखून पीले हो जाते हैं, साथ ही मूत्र का रंग भी पीला हो जाता है। जैसा कि पहले भी ऊपर बताया जा चुका है कि गर्मियों में निर्जलीकरण की संभावना बनी रहती है, इसलिए इस कारण से भी पीलिया हो जाता है। इसके अलावा गंदा पानी पीने के कारण भी जाॅन्डिस हो जाता है।

यह भी पढ़ें- मधुमेह

गरम मौसम की समस्याओं से ऐसे रहें सुरक्षित-

1. यदि पीलिया रोग से बचना है तो गर्मियों में पानी खूब पीयें, लेकिन पानी की स्वच्छता भी विशेष ध्यान रखें। दूषित जल से बचें।

2. फूड प्वाइजनिंग न हो जाये, इसके लिए अपने खान-पान का रखें विशेष ध्यान। गर्म मौसम में बहुत ज्यादा तेलयुक्त भोजन नहीं करना चाहिए और न ही तेज मिर्च-मसालों का प्रयोग करना चाहिए।

Garmi Me Health Tips In Hindi

3. शरीर में पानी की कमी(डिहाइड्रेशन) न होने दें। इसलिए भरपूर पानी पीयें और जितना हो सके ऐसे पदार्थों का सेवन करें, जिनसे जल की आपूर्ति भी शरीर में होती रहे जैसे- गन्ने का जूस पीयें, छांछ व लस्सी पी सकते हैं, नारियल का पानी भी उत्तम रहता है, आम पन्ना आदि।

4. जितना अपनी ओर से संभव हो सके प्रयास करें कि गर्मियों के दिनों में विटामिन ‘ए’ और विटामिन ‘सी’ लेते रहें। विटामिन ‘ए’ के लिए जैसे काले अंगूर, हरी पत्तेदार सब्जियां और विटामिन ‘सी’ की पूर्ति के लिए रसभरे फल जैसे आम, खट्टे फलों का सेवन, नींबू पानी विशेषकर पीयें।

5. गर्मियों के मौसम में जितना बाहरी रूप से शरीर को शीतल रखने की आवश्यकता होती है, उतनी ही अंदर से भी शरीर को ठंडा रखने का प्रयास करना चाहिए। ऐसे पदार्थों का सेवन करें, जिनसे शरीर को अंदरूनी तौर भी ठंडक मिले। इसके लिए आप मौसम के अनुसार ताजे फलों का सेवन कर सकते हैं। जैसे- पपीता, अंगूर का जूस, खट्टे-मीठे संतरे।
बेल का शरबत गर्मी के लिए बहुत उत्तम माना जाता है। गर्मी में मोटापा घटाने में भी यह सहायक होता है।

6. घर में ही आसानी से तैयार की जाने वाली चीज है नींबू पानी जिसे शिकंजी भी कहते हैं। गर्मियों के लिए यह एक बहुत ही उत्तम पेय है।

7. पुदीना भी गर्मी के मौसम में एक अच्छा विकल्प है। इसमें कुदरती तौर पर पिपरमिंट पाया जाता है। पुदीना का इस्तेमाल लू लगने पर, ज्वर आने पर, शरीर की जलन के लिए और पेट की गैस दूर करने के लिए करें, बहुत ही लाभ पहुंचता है।

8. यदि आप घर के बाहर अधिक रहते हैं, तो लू से बचने का सबसे अच्छा उपाय है प्याज का सेवन। प्याज खायें और शरीर को लू से बचायें।

9. तेज गर्म हवायें चल रहीं हो, तो खुद को लू से सुरक्षित रखने के लिए घर से निकलते वक्त सिर को ढकने के लिए कुछ कपड़ा, छतरी या वस्तू ले लें। इससे चलने वाली गरम हवा सीधे तौर पर आपके शरीर को नहीं लगेगी और आप सुरक्षित रह सकेंगे।

10. स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए गर्मियों में बेल का शरबत भी लाभकारी पेय माना जाता है। इसे पीने से व्यक्ति का मोटापा भी कम होता है।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.