Doodh Badhane Ke Gharelu Nuskhe

Doodh Badhane Ke Gharelu Nuskhe

दूध बढ़ाने के घरेलू नुस्खे

Agalactia, Mastitis, Breastfeeding Problems, Breast Milk Increasing Tips

इस रोग में स्त्री के स्तनों में दूध बहुत कम आता है या फिर यूं कह सकते हैं कि दूध कम बनता है। जिससे नवजात शिशु भूखा रह जाता है और उसका पूर्ण पोषण नहीं हो पाता है। माँ के स्तनों में कम से कम इतना दूध तो अवश्य होना चाहिए, जिससे बच्चे को पेट भर जाये और वह भूखा न रह पाये।

आप यह हिंदी लेख Chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

घरेलू चिकित्सा-(स्तनों में दूध की कमी)

Doodh Badhane Ke Gharelu Nuskhe

(1.) शतावरी और मिश्री प्रत्येक 100 ग्राम लेकर खूब बारीक कर लें। 10-10 ग्राम सुबह-शाम सुखोष्ण मीठे दूध के साथ सेवन करें, लाभ प्राप्त होगा।

(2.) शतावरी चूर्ण 10 ग्राम, दूध 250 मि.ली. तथा पानी 250 मि.ली. में डालकर उबालें। जब पानी सूखकर दूध शेष रह जाये, तो मिश्री चूर्ण 10 ग्राम तथा एक छोटी इलायची का चूर्ण मिलाकर उतार लें। सुखोष्ण स्त्री पीये। ऐसी 1-1 मात्रा दोनों समय दें।

(3.) शतावरी पीली 100 ग्राम, बिदारीकन्द 100 ग्राम, मुलेठी 50 ग्राम, अश्वगंधा 50 ग्राम, पीपल 25 ग्राम, सफेद जीस 25 ग्राम तथा मिश्री 350 ग्राम। इन सबको एकदम अच्छे से बारीक कर लें चूर्ण की तरह। 1-1 चम्मच प्रतिदिन 3 बार गाय के दूध के साथ दें।

(4.) सफेद जीरा को गाय के घी में हल्का भूनकर चूर्ण कर लें। 1-1 छोटा चम्मच सुबह-शाम सुखोष्ण मीठे दूध के साथ दें।

(5.) पीली शतावरी 100 ग्राम, श्वेत बिदारीकन्द 100 ग्राम, सफेद जीरा 50 ग्राम, असगन्ध नागौरी 50 ग्राम, अष्टवर्ग 100 ग्राम, बिनौले की मीगी 50 ग्राम तथा मिश्री 400 ग्राम महीन कर लें। 10-10 ग्राम सुबह-शाम दूध के साथ लें।

यह भी पढ़ें- स्तनों का ढीलापन दूर करने के घरेलू उपाय

(6.) शतावरी पीली 200 ग्राम, सफेद बिदारीकन्द 200 ग्राम, घी में भुना हुआ जीरा 100 ग्राम, घी में भुनी हुई कमलगट्टे की गिरी 50 ग्राम तथा मिश्री 400 ग्राम महीन-चूर्ण कर लें। 10-10 ग्राम सुबह-शाम दूध के साथ सेवन करने से बहुत जल्दी लाभ मिलता है।

Doodh Badhane Ke Gharelu Nuskhe

(7.) शतावरी, बिदारीकन्द, असगन्ध, घी में भुना हुआ जीरा, घी में भुनी हुई कमलगट्टे की गिरी, मुलेहठी, मूँगफली 100 ग्राम, सोंठ और पीपल 50-50 ग्राम, मिश्री 800 ग्राम महीन चूर्ण कर लें। 10-10 ग्राम सुबह-शाम दूध के साथ दें।

(8.) अष्टवर्ग चूर्ण 1 ग्राम और शतावरी चूर्ण 2 ग्राम सुबह-शाम दूध के साथ लेने से लाभ होता है।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.