Diabetes ka gharelu ilaj

Diabetes ka gharelu ilaj

मधुमेह का घरेलू इलाज

Diabetes, Madhumeh, Sugar, What Is Diabetes

इस रोग में रक्त शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है और जब यह मात्रा अधिक बढ़ जाती है, तब मूत्र में भी शर्करा आने लगती है। सामान्यतः खाली पेट रक्त शर्करा 70 से 110 एम.जी./डी.एल. तथा भोजन के दो घंटे बाद 90 से 130 एम.जी./डी.एल. तक होती है। लेकिन यह रोग हो जाने शर्करा की मात्रा सीमा से अधिक बढ़ जाती है। मूत्र अधिक और बार-बार आना, प्यास अधिक लगना, भूख अधिक लगना, कमज़ोरी एवं थकावट प्रतीत होना, कामेच्छा कम होना आदि लक्षण इस रोग में होते हैं। मूत्र का सापेक्षिक धनत्व भी बढ़कर 1025 से बढ़कर 1077 तक हो जाता है।

आप यह हिंदी लेख Chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

घरेलू चिकित्सा-

Diabetes ka gharelu ilaj

1. मेथी चूर्ण 1-1 चम्मच दो बार जल के साथ रोगी को दें।

2. आँवला 100 ग्राम, मेथी, हल्दी, काला जीरा प्रत्येक 40 ग्राम, तेजपत्र 20 ग्राम महीन चूर्ण कर लें। यह आधा-आधा चम्मच 2 बार भोजन के आधे घंटे पहले जल के साथ दें।

3. करेले का रस 1-2 चम्मच सुबह-शाम लेने से लाभ होता है।

4. प्रतिदिन प्रातःकाल 5 नीम के पत्ते चबाकर खाने से मधुमेह में लाभ होता है।

5. जामुन की गुठल का चूर्ण 1-1 ग्राम 2 बार लेने से लाभ होता है।

यह भी पढ़ें- कब्ज दूर करें

6. सदाबहार की 5-6 पत्तियाँ प्रतिदिन सुबह खाली पेट चबाकर खाने से लाभ होता है।

7. पीपल 11 नग को एक पाव दूध में खौलाकर मधुमेह रोगी को खाने के लिए दें। ऊपर से यही दूध पिला दें। इस योग से मधुमेह में लाभ होता है।

8. बिनौला 12 ग्राम मोटा-मोटा कूटकर ) लीटर मामूली गर्म जल में डालकर रातभर पड़ा रहने दें। सुबह के समय पकायें। जब ) पानी रह जाये, तो छानकर पिलायें।

9. गुड़मार बूटी 2 भाग, सोंठ 1 भाग, जामुन के बीज की गिरी 1 भाग। इन्हें चूर्ण करें। 1 से 2 माशा चूर्ण दूध के साथ दें।

10. हरे करेले का छिलका उतार कर इसको दबाकर रस निकाल लें। 2-4 चम्मच रस दिन में 2-3 बार पिलाते रहने से पुराना मधुमेह तक ठीक हो जाता है। इन्सुलिन के इंजेक्शनों से अधिक लाभप्रद है।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.