Dast Ki Medicine

Dast Ki Medicine

दस्त की मेडिसिन

अतिसार, दस्त आना

Diarrhea, Loose Motion, Diarrhea Home Treatment, Dast Ki Medicine

इस रोग में पतले दस्त बार-बार आते हैं, पेट में गुड़गुड़ाहट होती है। कभी-कभी पेट फूल जाता है। यह रोग अधिकतर खानपान की गड़गड़ी के कारण होता है। रोगी जो भोजन खाता है, वह पच नहीं पाता और पका-अधपका भोजन पतले दस्तों के रूप में आता है, प्यास लगती है तथा कमज़ोरी प्रतीत होती है।

आप यह हिंदी लेख Chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

घरेलू चिकित्सा-

Dast Ki Medicine

1. सौंफ, जीरा और धनिया बराबर-बराबर लेकर बारीक कर लें। इसमें नमक 15 ग्राम तथा चीनी 30 ग्राम मिला लें। 1-1 चाय चम्मच प्रतिदिन 3 बार मट्ट्ठे के साथ दें। लाभ होगा।

2. सफेद जीरा और सूखी बेलगिरी बराबर-बराबर खूब बारीक कर लें। 1-1 चम्मच दिन में 2 बार जल के साथ दें। दस्त आना बंद हो जायेंगे।

3. ताजा पानी एक गिलास में नींबू का रस एक चम्मच, काला नमक एक चुटकी तथा चीनी एक चम्मच मिलाकर पीने से पतले दस्त आने बंद हो जाते हैं। ऐसी एक-एक मात्रा दिन में 3-4 बार दें।

यह भी पढ़ें- गैस और एसिडिटी से छुटकारा पायें

4. पुदीने का शर्बत पीने से भी पतले दस्तों में लाभ होता है। पुदीने की 8-10 पत्तियों को पीसकर एक गिलास ताजा पानी में मिला लें। थोड़ी चीनी भी मिला लें। यह शर्बत 1-1 गिलास दिन में 2-3 बार दें। जब तक दस्त बंद न हो जायें। ध्यान रहे, इस बीच भोजन न दें।

5. दूध बूटी 10 ग्राम पानी में पीस-छानकर पीने से पतले दस्तों का आना बंद हो जाता है।

6. लौंग 7 ग्राम, हींग चना प्रमाण और सेंधा नमक आवश्यकतानुसार लेकर जल के साथ पीसें और अतिसार होने की आरम्भ में ही सेवन करें। इसे गर्मियों में ठंडा तथा सर्दियों में अग्नि पर कुछ गर्म करके देना चाहिए। इससे दस्त रूक जाते हैं।

Dast Ki Medicine

7. आम की गुठली, नमक, सोंठ, बेलगिरी और हींग को ताजा पानी में घिसकर पिलाना चाहिए। यदि ठंडी ऋतु हो तो गर्म करके देना चाहिए। इससे अतिसार तथा आमातिसार में लाभ होता है।

8. कच्चे दूध में नींबू निचोड़ कर पिलाने से आमातिसार या रक्तातिसार में भी लाभ होता है।

9. ग्रीष्म ऋतु के दस्तों में, ताजे पानी में नींबू निचोड़ कर पीने से दस्त रूक जाते हैं।

यह भी पढ़ें- शुगर कंट्रोल करें

10. एक लीटर पानी में 2 चम्मच चीनी तथा 1 चुटकी भर नमक मिलाकर रखें और थोड़ा-थोड़ा कर पीयें। पानी गर्म करके ठंडा कर लेना चाहिए। दस्तों में हितकर है।

11. सूखे हुए आँवले और धनियाँ समान भाग का कपड़छान चूर्ण करें और उसमें थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर पानी के साथ सेवन करायें तो अतिसार(दस्त) में लाभ होगा।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.