Aankhon Ke Dard Me Gharelu Ayurvedic Upay

Aankhon Ke Dard Me Gharelu Ayurvedic Upay

आँखों के दर्द में घरेलू आयुर्वेदिक उपाय

आँखों में दर्द, चक्षु पीड़ा, चक्षु गोलक शूल, नेत्र पीड़ा-
(Painful Eye, Pain in Eye Ball)

परिचय-

आँखों में संक्रमण, नेत्राभिष्यन्द, आँखों में कुछ पड़ जाने आदि से आँखों में पीड़ा होती है। इनके अतिरिक्त कभी-कभी आँखों के निरीक्षण-परीक्षण से तो कोई रोग प्रतीत नहीं होता है, लेकिन आँखों के गोलकों में पीड़ा होती है। कुछ ऐसे रोग भी होते हैं, जिसमें लक्षण स्वरूप आँख में पीड़ा होती है जैसे आधासीसी में रोग का आक्रमण सिर के जिस भाग में(बांयी या दायीं ओर) होता है, उस ओर की आँख पीड़ित हो जाती है।

चिकित्सा से पूर्व :

रोग के मूल कारण पता लगायें और तदानुसार चिकित्सा करें।
रोगी के शरीर में वात-पित्त और कफ संबंधी विकारों पर विचार करें। जिस विकार/विकारों के लक्षण हों, उसकी चिकित्सा करें।

आप यह आर्टिकल chetanherbal.com पर पढ़ रहे हैं..

चिकित्सा-

Aankhon Ke Dard Me Gharelu Ayurvedic Upay

1. आम की केरी(कोइली) को पीसकर आँख पर बांधने से आँखों की पीड़ा ठीक हो जाती है।

2. यदि गर्मी से आँखें दुखती हों या वायु(वात) से आँखें फूल जायें, तो आँसू(विलायती मेंहदी) का रस आँखों में टपकाने से लाभ होता है।

3. कटेरी के पत्तों को पीसकर इसकी लुगदी आँखों पर बांधने से आँखों का दर्द दूर हो जाता है।

4. भाँग के ताजे पत्तों को पीसकर और गरम करके आँखों पर बांधने से आँखों की पीड़ा में लाभ होता है

5. गोभी के पत्तों को पीसकर टिकिया बनाकर कोरे मिट्टी के बर्तन में गर्म करके आँखों पर बांधने से दुखती आँखें ठीक हो जाती हैं।

6. गोरखमुण्डी की जड़ को छाया में सुखाकर उसका चूर्ण बनाकर समान मात्रा में शक्कर मिलाकर गाय के दूध के साथ लेने से नेत्र रोग में लाभ होता है।

यह भी पढ़ें- डायबिटीज़

7. घीग्वार(ग्वारपाठा) का गूदा 1 ग्राम में अफीम 350 मि.ग्रा. मिलाकर पोटली बनाकर पानी में डूबोकर आँखों पर फेरने और 1-2 बूँद नेत्रों में टपकाने से नेत्र पीड़ा दूर हो जाती है।

8. छोटे घीग्वार के गूदे पर थोड़ी-सी फुलाई हुई फिटकरी पीसकर छिड़कर आँखों पर बांधने से नेत्र पीड़ा ठीक हो जाती है।

9. पान के रस की 1-2 बँूद आँखों में टपकाने से आँखों में होने वाला बादी का दर्द ठीक हो जाता है।

10. तूतिया का हल्का लोशन आँखों में डालने से आंखों की पीड़ा समाप्त हो जाती है।

11. थूहर के दूध में मीठे तेल के काजल को खरल करके सुखाकर आँखों में आंजने से आँखों का दुखना और गीद निकलना ठीक हो जाता है।

12. नागफनी के पत्तों का गूदा आँखों पर बांधने से आँख दुखना ठीक हो जाता है।

13. नीम के कोमल पत्तों का रस मामूली गर्म करके दुखती आँख के विपरीत कान में डालने अर्थात् दायीं आँख दुखती हो तो बायें कान में डालें। यदि दोनों आँखों में पीड़ा हो तो दोनों कानों में डालें।

14. प्याज का रस आँखों पर लगाने से आंखों की पीड़ा दूर हो जाती है।

यह भी पढ़ें- उच्च रक्तचाप

15. प्याज के रस में शहद मिलाकर आंजने से नेत्रपीड़ा और नज़ला में लाभ होता है और आँखों की ज्योति बढ़ती है।

16. नींबू के रस में फिटकरी का फोला पीसकर माथे पर लेप करने से आँख की पीड़ा मिटती है।

17. फिटकरी 50 मि.ग्रा. को गुलाब जल 25 मि.ली. में मिलाकर 1-2 बूँदें आँखों में डालने से आँखों की लाली और कीच आना ठीक हो जाता है।

18. बबूल के नर्म पत्तों को पीसकर रस निकाल कर आँखों में डालने से अथवा स्त्री के दूध का लेप करके आँखों पर बांधने से आँख की पीड़ा और सूजन मिट जाती है।

19. बेल(श्रीफल) के पत्तों की पुल्टिस बांधने से आँखों का दुखना और अधिक कीच(गीद) आना बंद हो जाता है।

20. लोध, जीरा और भुनी हुई फिटकरी को पीसकर घीग्वार के गूदा में मिलाकर कपड़े में पोटली बनाकर पानी में डुबोकर नेत्रों पर फेरने से नेत्र पीड़ा में आराम पहुंचता है।

21. काले सिरस के पत्तों के रस का अंजन करने से नेत्र पीड़ा में लाभ होता है।

Aankhon Ke Dard Me Gharelu Ayurvedic Upay

22. सेब को पीसकर इसका लेप करने से पित्त से होने वाली आँखों की पीड़ा में लाभ होता है।

यह भी पढ़ें- कब्ज़

23. सोंठ और नीम के पत्ते या निम्बोली को पीसकर थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर टिकिया बनाकर मामूली गर्म करके नेत्रों पर बांधने से नेत्रों की पीड़ा, खुजली और सूजन में लाभ होता है।

24. सोंठ पानी में घिसकर आँखों में टपकाने से नेत्र पीड़ा में लाभ होता है।

25. शुद्ध हल्दी 15 ग्राम को पानी 10 औंस में घोल लें। इस घोल की एक-दो बूँदें आँखों में डालने से आँख आना और नेत्र पीड़ा में लाभ होता है।

About the author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.